अब तीनों ज्योतिर्लिंग के दर्शन होंगे आसान, MP के इस शहर से चलेगी MEMU ट्रेन

खरगोन. भोले के भक्तों के लिए खुशखबरी है. ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग सहित महाकाल और त्रयंबकेश्वर के दर्शक करना अब और आसान हो जाएगा. दरअसल, खरगोन के सनावद से ओंकारेश्वर तक 5 Km लंबा रेलवे ट्रेक बनकर तैयार हो चुका है. संभवतः श्रावण मास में निरीक्षण के बाद सनावद से खंडवा चलने वाली मेमू (MEMU) ट्रेन ओंकारेश्वर तक शुरू हो जाएगी.

वहीं, सिंहस्थ-2028 के लिए प्रधानमंत्री ज्योतिर्लिंग कॉरिडोर योजना के तहत ओंकारेश्वर रोड़ को नासिक रोड (त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग) स्टेशन से जोड़ा गया है. ताकि, श्रद्धालुओं को तीनों ज्योतिर्लिंग ओंकारेश्वर, महाकालेश्वर और त्रयंबकेश्वर के दर्शन सुलभ तरीके से हो सके.

ओंकारेश्वर रोड को नासिक रोड से जोड़ा गया

प्राप्त जानकारी के अनुसार, ओंकारेश्वर रोड को नासिक रोड से भी जोड़ा गया है. अगले महीने कमिश्नर ऑफ रेलवे सेफ्टी पश्चिम रेलवे का निरीक्षण करेंगे. निरीक्षण के बाद, खंडवा से सनावद चलने वाली मेमू ट्रेन को ओंकारेश्वर रोड तक विस्तारित किया जाएगा. यह ट्रेन सितंबर से चलेगी.

ओंकारेश्वर रोड तक गेज कन्वर्जन का काम भी पूरा

वर्ष 2017 में खंडवा-अकोला-इंदौर मीटरगेज से ब्रॉडगेज में कन्वर्जन का काम शुरू हुआ था, जो अभी भी चल रहा है. जबकि, इसी साल खंडवा-सनावद के बीच मेमू ट्रेन का संचालन शुरू हो गया था. अब, सनावद से ओंकारेश्वर रोड तक गेज कन्वर्जन का काम भी पूरा हो गया है. पश्चिम रेलवे द्वारा ट्रैक का काम पूरा होने के बाद अब रेलवे स्टेशन पर यात्री सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए प्लेटफार्म सहित अन्य निर्माण कार्य किए जा रहे हैंं. यहां टिकट काउंटर, वेटिंग हाल, शौचालय और पेयजल की व्यवस्था होनी है.

घाट सेक्शन में काम की रफ़्तार धीमी 

रेलवे अधिकारियों के अनुसार खंडवा-महू ब्रॉडगेज के तहत सिंहस्थ 2028 से पहले ओंकारेश्वर से पातालपानी के बीच ट्रैक का काम पूरा होने की संभावना कम है. घाट सेक्शन में काम की रफ़्तार धीमी होने के कारण समय पर रेलवे ट्रैक तैयार नहीं हो पाएगा. ओंकारेश्वर से त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग को जोड़ने से खंडवा के माध्यम से दोनों स्थानों पर श्रद्धालुओं को सुविधा मिलेगी.

2024-07-10T07:35:11Z dg43tfdfdgfd